Tag : BirthAnniversary

Akbar Allahabadi

Akbar Allahabadi in a New Avatar!

In Akbar Allahabadi, Urdu language found a humorist, a satirist, a commentator, and a reformer. Unlike many, his satire is not corrosive, or black in nature. He lived during the British Raj and his poetry provides glimpses into the socio-political conditions of that age.

Sir Syed Ahmad Khan and Mirza Ghalib

सर सय्यद और ग़ालिब के बीच की नाराज़गी, जो किताब से शुरू हुई और बोतल पर ख़त्म हुई

सर सय्यद और ग़ालिब के रिश्ते उस किताब से ख़राब हुए थे जिसे सर सय्यद ने सम्पादित किया था और ग़ालिब ने उस किताब के लिए सर सय्यद की ख़ूब आलोचना की थी। लेकिन इसके बाद एक समय वो आया जब दोनों के बीच की दूरियाँ शराब की एक बोतल पर समाप्त हुईं।

यूसुफ़ी: जो उर्दू फ़र्श पर बैठ कर लिखते थे और अंग्रेज़ी कुर्सी पर

भाषा के लिए यूसुफ़ी अपनी पत्नी को अपना गुरु समझते थे। इदरीस बेगम अलीगढ़ की तालीम-ए-याफ़ता थीं और ज़बान शनास थीं। यूसुफ़ी उनसे कहते ‘भाषा के मुआमले में हम तुम्हारी मानते हैं बाक़ी मुआमलों में तुम हमारी मानो।’

The importance of prayer

Gandhi: “My Life is My Message”

Gandhi was a Sufi and a Yogi, a liberator and a martyr for whom India was the karma bhoomi.

Zafar Iqbal Rekhta Blog

Zafar Iqbal – the canon maker of modern Urdu ghazal

Zafar Iqbal’s poetry contains an element of protest. Here are some couplets of Zafar Iqbal that will surely awaken your conscience.

Twitter Feeds

Facebook Feeds