Articles By Vijay Sharma

Rishton Ki Ahmiyat, Rishton Ki Majbooriyan

रिश्तों की मजबूरियाँ और शायर का दर्द

आदमी के पैदा होते ही उसके साथ तमाम तरह के रिश्ते जुड़ जाते हैं | जब होश संभलता है तो पता लगता है कि आख़िर ये रिश्ते क्या हैं और इनकी हमारी ज़िन्दगी में अहमियत क्या है ! इसके बाद कुछ रिश्ते बेहद ज़रूरी लगने लगते हैं और कुछ एकदम बेमानी | फिर ज़िन्दगी के… continue reading

Depression Shayari, Shayari in Depression, Shayari to Help Fight Depression

डिप्रेशन में शायरी कैसे काम आती है

शायर कैफ़ भोपाली साहब फ़रमाते हैं – ज़िन्दगी शायद इसी का नाम है,दूरियाँ, मजबूरियाँ, तन्हाईयाँ ज़िन्दगी हमारे सामने कई रूप और कई रंगों के साथ मौजूद है | आज कुछ ऐसे हालात बनते जा रहे हैं कि कहीं भी कोई उम्मीद की रौशनी नज़र नहीं आती | मुस्तक़बिल किसी ज़र्द दरीचे के उस पार का… continue reading

Twitter Feeds

Facebook Feeds