Tag : Shahryar

Shahryar Blog

ख़्वाब , सूरज , जुनून , रेत, रात जैसे शब्दों को शहरयार ने अलग अंदाज़ में बरता है

शहरयार ने रात को कई रंगों में रंगने की कामयाब कोशिश की है। उन्होंने रात को अक्सर ज़ुल्म से ताबीर किया है। रात का रंग सियाह होता है, जो नेगेटिविटी ज़ाहिर करता है। सूरज, रोशनी और ख़ुशहाली की अलामत है। शहरयार के यहां रात अक्सर ज़ुल्म की इंतिहा दिखाती है।

Night Shayari, Shayari on night, A Metaphor to a Hundred Colours

Night- A Metaphor to a Hundred Colours

Ghalib, unconventionally romantic in his couplets, portrays night as the darkness in which the beloved shines. Perhaps it’s only the bewitching scattered tresses which deceive the lover into thinking that he alone enjoys sleep, peace and the night!

Twitter Feeds

Facebook Feeds