Tag : Bollywood

Bollywood and Urdu

जब महबूबा को मर्डरर के बजाए क़ातिल कहा जाए

उर्दू की तारीफ़ बयान करने के लिए मेरे पास सिर्फ़ एहसासात ही हैं क्यों कि ये काम लफ़्ज़ों को नहीं दिया जा सकता। मैं यक़ीन से कह सकता हूँ कि अगर उर्दू बॉलीवुड का हिस्सा न होती तो ऐसी फ़िल्में, ग़ज़लें, नग़्में, डायलॉग्स का हमारी ज़िंदगी पर कोई ख़ास असर न होता।

Majrooh Sultanpuri, ‎मजरूह सुल्तानपुरी

मजरूह सुल्तानपुरी : जिन्हें जिगर मोरादाबादी ने फ़िल्मों में लिखने के लिए राज़ी किया

एक दिन मजरूह साहब अपने रिकॉर्ड प्लेयर में मल्लिका-ए-तरन्नुम ‘नूरजहाँ’ की गायी और फ़ैज़ साहब की लिखी नज़्म “मुझसे पहली सी मुहब्बत…” सुन रहे थे। इस नज़्म में एक मिसरा आया ‘तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है’। मजरूह साहब इस मिसरे के दीवाने हो गए और उन्होंने फ़ैज़ साहब से बात की कि वो इस मिसरे को ले कर एक मुखड़ा रचना चाहते हैं। फ़ैज़ साहब ने इजाज़त भी दे दी।

Naye daur ke sangeet ka sufiyana mizaj

नए दौर के संगीत का सूफ़ीयाना मिज़ाज

सन् 2009 में आई फ़िल्म ‘वेकअप सिड’ के गीतों की लोकप्रियता असंदिग्ध है। ख़ासतौर पर ‘गूंजा सा है कोई इकतारा’ की। जिंदगी के छोटे-छोटे पलों, ख़यालों में खोई कोंकणा सेन शर्मा, हवाओं और समुद्र की लहरों के बीच इसका सुंदर फ़िल्मांकन लोगों को कितना पसंद आया इसे यूट्यूब पर इसके व्यूज़ और कमेंट में देखा जा सकता है। कविता सेठ की ख़ूबसूरत आवाज़ सीधे दिल में उतर जाती है।

Rekhta blog Sahir

Jab Bhi Aaya Naye Geet Laata Rahunga

A Romanticist-cum-Marxist, Sahir Ludhianvi remains with us as an iconic poet. Celebrated as a poet, film lyricist, he also remained at the centre of stories that has kept us fascinated over these decades. Here are some excerpts from his poetry that establish him as a poet of resistance par excellence. Dreams sustain us. Even in… continue reading

Mumbai city Rekhta blog

Shahr Namaah Banaam Mumbai

I am Mumbai. Not long ago, I was known as Bombay. Still some call me by my old name because they love me– as one loves a dear one by names more than one.

Twitter Feeds

Facebook Feeds