Tag : poetry

Bichhda Kuch Is Ada Se Ki Rut Hi Badal Gai

The tree of Time, too, withers just like any other tree the only exception being that, the leaves that bid farewell to Its branches are our dearest companions. This withering is a certainty, what is uncertain is that no one knows when and which leaf is going to fall next… in the embrace of Death…. continue reading

Nazm, shayari, urdu poetry

नज़्म क्या होती है?

लेखक: धीरेन्द्र सिंह फ़ैयाज़ नज़्म का लुग़वी मआनी ‘पिरोने’ का है. जैसे अक्सर हम यह कहते भी हैं कि फ़लाँ ने फ़लाँ शे’र में फ़लाँ लफ़्ज़ जो नज़्म किया है वह ज़बान के लिहाज़ से दुरुस्त नहीं है.नज़्म (पाबन्द) की तवारीख़ देखें तो मेरे ख़याल से इसकी उम्र ग़ज़ल की उम्र के लगभग बराबर ही… continue reading

Urdu jise kehte hain. Language, urdu, culture

उर्दू जिसे कहते हैं

ज़बानें अपना कल्चर रखती हैं और वही ज़बान बड़ी तसव्वुर की जाती है जिस में ख़याल और इज़हार के लिए अल्फ़ाज़ की तंगी न हो, यूँ तो सारी ज़बानों के अपने लफ़्ज़ और अपना शब्द-कोश होता है। और दुनिया के मुखतलिफ़ हिस्सों में बस्ने वाले लोग अपनी ज़बान पर फ़ख्र भी करते हैं, इसी तरह… continue reading

cover heer ranjha image bolg photo love story [prem kahani

Qissa-Kahaani Banaam Heer Ranjha

Some stories never die; they are told again and again, from time to time, place to place, author to author. One such is the story of Heer and Ranjha. About six centuries old now, it was first narrated in verse by one DamodarArora during the reign of Emperor Akbar. Damodar was a native of Jhang where the story is broadly based and he had heard it from one Raja Ram Khatri who is supposed to be an eyewitness to all that happened. Since then it has been narrated variously and in various languages, both in verse and prose. One of the most notable narratives came from Waris Shah in 1766, apart from several others in Sindhi, Haryanavi, Hindi, Urdu, Persian, and English. In Persian alone, there are as many as twenty versions of this story and in Urdu not less than fifteen.

Ghalib allusions, words, blog

क्या ग़ालिब के शेरों में आए ये लफ़्ज़ आपको भी मुश्किल में डालते हैं?

अच्छी शायरी का मुआमला ज़रा अलग क़िस्म का होता है, इसमें लफ़्ज़ों के परे एक ऐसी दुनिया होती है कि अगर आप उस तक पहुंचने से असमर्थ रहे तो शायरी के असल आनंद से वंचित रहेंगे।

Twitter Feeds

Facebook Feeds