Tag : Urdu Shayari

Tazmin Nigari in Urdu

The Art of Tazmin-Nigari in Urdu Poetry

Derived from its Arabic root Zimn, Tazmin literally means to join or include one thing in another, but in poetics, it means inserting the verses of another in one’s own poem. It’s a genre of poetry in which a poet draws upon a line, or a couplet, belonging to some other poet and adds to it a line of his own.

Jigar Moradabadi

मेरा पैग़ाम मुहब्बत है…

जिगर साहिब रिवायती ग़ज़ल के आख़िरी बड़े शायर हैं। लेकिन उनकी शायरी के आख़िरी दौर में कहीं-कहीं आधुनिकता के हल्के-हल्के रंग भी नज़र आने लगे थे। अगर जिगर साहिब को दस बरस की ज़िन्दगी और शायरी अता हो जाती तो मुमकिन है कि जिगर साहब जदीद शायरी की बुनियाद रखने वाले शायरों में भी गिने जाते।

Ishq Shayari

Ishq: A Linguistic Lesson in Love

The word Ishq has been derived from its Arabic cognate ‘Ashiqa (عشقه) which is a kind of ivy or Bel, as we refer to in Hindi. But this is not just any creeper growing around. This clinging plant is actually a parasitic plant – similar to the mistletoe – that actually wraps up around another plant and eventually dries it out completely, to the extent that the original plant dies and only the passion-vine (ivy) remains.

Dushyant Kumar Blog

दुष्यंत कुमार : हाथों में अंगारे लिए एक शायर

दुष्यंत को सिर्फ सियासत को आइना दिखाने वाला शायर ही समझ लेना इस शायर और इसकी शायरी की अनदेखी करना है, जो कि हम लोग वर्षों से करते आ रहे हैं। दुष्यंत अपने हाथों में अंगारे लिए नज़र आता है मगर दूसरी तरफ उसके सीने में वह महके हुए फूल भी हैं जो जवां दिलों को महकाते हैं और प्रेम की एक अनदेखी और अनजानी फिज़ा कायम करते हैं।

Urdu Blog

 आईना-दर-आईना

आईने ने शाइरों का काम बहुत आसान बनाया, इतना आसान कि उस पर हज़ारों शेर कहे गए और अब नए शोरा आईने पर शेर कहते हुए या तो नए ज़ाविए तलाश करते हैं, या इस इस्तिआरे से ही गुरेज़ करते नज़र आते हैं।

Twitter Feeds

Facebook Feeds