Articles By Rekhta

Corona, shayari, urdu, poetry

कोरोना के बाद कि दुनिया: शायर कि नज़र से

लेखक: ज़िया ज़मीर इक्कीसवीं सदी की तीसरी दहाई शुरू हुआ चाहती है। मौसमे-सर्द रवाना होते-होते वापसी कर रहा है और मौसमे-गर्म की आमद-आमद है। मगर दो मौसमों के मिलन की इस साअत में भी दिल बुझे हुए हैं। दो-चार लोगों के दिल नहीं, दो-चार शहरों या मुल्कों के दिल नहीं बल्कि सारी दुनिया के दिल… continue reading

Urdu jise kehte hain. Language, urdu, culture

उर्दू जिसे कहते हैं

ज़बानें अपना कल्चर रखती हैं और वही ज़बान बड़ी तसव्वुर की जाती है जिस में ख़याल और इज़हार के लिए अल्फ़ाज़ की तंगी न हो, यूँ तो सारी ज़बानों के अपने लफ़्ज़ और अपना शब्द-कोश होता है। और दुनिया के मुखतलिफ़ हिस्सों में बस्ने वाले लोग अपनी ज़बान पर फ़ख्र भी करते हैं, इसी तरह… continue reading

HUM BHI DARIYA HAIN HUMEIN APNA HUNAR MAALUUM HAI

Concept and Text: Abbas Qamar In the latter half of twentieth century, the world was hit by a Feminist storm; and rightly so. The female voices rose to break free of the four-walls behind which they had always remained unheard in a strongly patriarchal society. We mention here some names and their works that championed… continue reading

BUSTING FICTION ESTABLISHING FACTS

A brief history of Urdu language exploring the popular myths that label Urdu as a ‘foreign language’, ‘Islamic language’, ‘camp language’ etc. It also offers a rough sample of a broad and universal linguistic pattern through the case history of India.

Hamse puchho ki Ghazal kya hai |

Talking about the appeal of Urdu Ghazal, it would be no exaggeration to assert that ghazal dwells outside the bounds of Time. Despite almost eight hundred years of its existence, it hasn’t lost its magnetic sheen. This blog unravels the elements of a ghazal that render to it its essential language-less musicality and enchanting lure.

Twitter Feeds

Facebook Feeds