Articles By Rekhta

wali-uzlat, poetry, profile

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे___क़ाएम चाँदपुरी

मोहम्मद क़यामुद्दीन ‘क़ाएम’ चाँदपुरी अठारहवीं सदी के मुम्ताज़ शाइ’रों में शामिल हैं। ‘क़ाएम’ चाँदपुरी की पैदाइश तक़रीबन 1725 में क़स्बा चाँदपुर, ज़िला बिजनौर के क़रीब ‘महदूद’ नाम के एक गाँव में हुई थी। लेकिन वो बचपन से दिल्ली में आ रहे और 1755 तक शाही मुलाज़मत के सिलसिले से दिल्ली में ही रहे। दिल्ली की… continue reading

Sadat-hasan-manto, ishq-nama, ishq, love, life

The Love-life of Sadat Hasan Manto

She was neither a figment of Manto’s imagination, nor his fantasy; she was real as a real being could be —made of flesh and blood who could put him to a tough test.

poetry, shatari, sher, urdu, blog

شعر کہانی

بات ہے جمنا کے کنارے بسی ہوئی اس دلیّ کی جس کی آغوش میں ابھی مرزا اسداللہ خاں غالب کی سانسیں لہر لے رہی ہیں غالب نفس کوچے شعر و سخن کی فضا میں اپنے پیچ و خم طے کر رہے ہیں پر کشش ہویلیوں کے دریچوں پر ٹھہری ہوئی ہوائیں شمعِ محفل کو داد… continue reading

love story, meera, meeraji, mad, love, urdu

Meeraji daana to naheen hai, aashiq hai saudaayi hai

A major modernist poet, by all means, Meeraji is also a myth of sorts. He had to be so, for he lived a life completely atypical and totally abysmal.

wali-uzlat, poetry, profile

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे…

। ख़ुदा-ए-सुख़न मीर तक़ी ‘मीर’ जो बड़े बड़ों को ख़ातिर में नहीं लाते थे, उनकी सुख़न-गोई के मद्दाह थे, अपने तज़्किरा ‘निकात-उश-शो’अरा’ में ‘उ’ज़लत’ को ‘ख़ूबियों और कमालात का मजमूआ’ कहा है।

Twitter Feeds

Facebook Feeds