Urdu jise kehte hain. Language, urdu, culture

उर्दू जिसे कहते हैं

जो ज़बान अपने चारों तरफ देखती है वही ज़बान इनसानी जरूरतों को पूरा भी कर सकती है।

ज़बानें अपना कल्चर रखती हैं और वही ज़बान बड़ी तसव्वुर की जाती है जिस में ख़याल और इज़हार के लिए अल्फ़ाज़ की तंगी न हो, यूँ तो सारी ज़बानों के अपने लफ़्ज़ और अपना शब्द-कोश होता है। और दुनिया के मुखतलिफ़ हिस्सों में बस्ने वाले लोग अपनी ज़बान पर फ़ख्र भी करते हैं, इसी तरह… continue reading

Holi ki shaam hi to sehar hai Basant ki

Holi’s dusk is the dawn of Spring

Colours! Dance!! Music!!! Festivity!!!
All these sum up Holi in our popular imagination.
But Holi is more—much more—than fun and frolic, fete and fiesta.

Ghalib: More Than a Poet

Ghalib is a poet par excellence.

He remains unparalleled for his intellectual curiosity, as also for his wit and humour. We bring you some lateefas (jokes) that will bring a smile to your lips. But they will also make you sad.

Saqi and Alvi

We lived together till death did us apart

Two major voices of modern Urdu poetry would never be heard again.

Yusufi: The Master of Humour & Satire

“Koi umr puchhta hai toh phone number dekar baton mein laga leta hu”

Twitter Feeds

Facebook Feeds