Mir Taqi Mir

‘बेटा इश्क़ करो, इश्क़’ कितना बदला था पिता की इस नसीहत से मीर का जीवन

किशोरावस्था में ही मिल जाने वाले इश्क़ के सबक़ को लेकर मीर उम्र भर जीते रहे। उनकी ज़िंदगी का कोई काम इश्क़ के शोर और वलवले से ख़ाली नहीं था। उन्होंने न सिर्फ़ पिता से ये नसीहतें सुनी थीं बल्कि इश्क़ में शराबोर उनके जीवन का नज़ारा भी किया था।

Mir Taqi Mir

Meer aur Unke Shagird: The Ustad in Meer Taqi Meer

Teacher’s day is quite a reminder as to why we should never forget what our teachers did for us. The same can be said for Urdu poetry where the tradition of Ustad and Shagird is both a legacy and a legend. Each of our favorite poets, at some point in time, reached out to their Ustads for corrections and amendments in their works, it’s a kind of unwritten law, one that is seldom read these days.

Ghazal

ग़ज़ल में मिसरे का टकरा जाना

आपने सबने ये जुमला ख़ूब सुना होगा कि फ़लाँ ग़ज़ल फ़लाँ ग़ज़ल की ज़मीन पर है। ग़ज़ल की ज़मीन से मुराद ग़ज़ल का ढाँचा है या’नी ग़ज़ल की बह’र, क़ाफ़िया और रदीफ़। मतलब ग़ज़ल की ज़मीन क्या है, ये उसके मतले से तय हो जाता है।

Hazrat-e-Ishq, हज़रत-ए-इश्क़

हज़रत-ए-इश्क़, जो उस्तादों के उस्ताद हैं

हिन्दुस्तानी तहज़ीब से वाक़िफ़ हर शख़्स ये बात जानता है कि कोई भी फ़न सीखने के लिए, इल्म हासिल करने के लिए पहले उसके लायक़ बनना ज़रूरी है, ये वो ज़मीन है जहाँ गुरुओं, उस्तादों, शिक्षकों का सम्मान करना शिक्षित होने की पहली सीढ़ी माना जाता है, ऐसे में उस्तादों का एहतराम करने की रवायत बन जाती है जो कई शेरों में झलकती है।

Shamim Hanafi

…وحشت ہے بہت میر کو

پروفیسر شمیم حنفی ایسے استاد تھے جن کا تعلق شعبۂ اردو جامعہ ملیہ اسلامیہ سے وظیفہ یاب ہونے کے بعدبھی مستقل اور مستحکم رہا۔گذشتہ پندرہ برسوں کے دوران شعبۂ اردو کی علمی وادبی سرگرمیوں کا بہ مشکل ہی کوئی ایسا موقع ہو گا جہاں وہ موجود نہ رہے ہوں۔شعبہ کے طلبا سے ان کاوالہانہ تعلق اور اساتذہ کے دلوں میں ان کے تئیں محبت و احترام کے جذبے نے ایک نئی فضا قائم کررکھی تھی۔

Naya Nagar Novel

“नया नगर” से बाहर निकलते हुए…

“नया नगर” तसनीफ़ का पहला नॉवेल है। इस नॉवेल में तसनीफ़ ने उर्दू अदब के मुख़्तलिफ़ मसाइल को क़ारईन-ओ-नाक़िदीन के सामने पेश करने की कामयाब कोशिश की है। नॉवेल बेसिकली उर्दू कल्चर के ज़वाल का एक बयानिया है। बयानिया से मेरी मुराद एक कहानी को बयान करने से है ना कि नैरेटिव से। इस नॉवेल में जिन मौज़ूआ’त पे रौशनी डाली गई है उनमें ग़ज़ल, औरत, अदबी और मज़हबी तफ़रक़ा-बाज़ियों का ज़िक्र आता है। इसके अलावा गुजरात राइट्स, इश्क़-ए-ला-हासिल और मीरा रोड से नज़र आने वाली फ़िल्मी दुनिया का बयान भी किया गया है।

Twitter Feeds

Facebook Feeds