Ghazal, Hard and Sur

ग़ज़ल की मक़बूलियत का सफ़र

मौसीक़ी को पसंद करने वाले की तादाद तब ज़ियादा बढ़नी शुरू हुई, जब इसमें ग़ज़लों को दौर शुरू हुआ | ग़ज़ल की सबसे बड़ी ख़ासियत आहंग और अरूज़ ने गुलूकारों को वो आसानी बख्शी कि कोई भी उस्ताद गुलूकार ग़ज़ल गाए बग़ैर नहीं रह सका |

Blog on Faiz Ahmad Faiz

जब फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ को इंग्लिश के पर्चे में 150 में से 165 नंबर मिले

थर्ड ईयर के इम्तिहान के बाद जब तालिब-ए-इल्म अपनी अपनी कापियाँ देख रहे थे तो फ़ैज़ की कॉपी पर 165 नंबर दर्ज थे। कोई हैरान हुए बग़ैर नहीं रह सका क्योंकि इम्तिहान सिर्फ़ 150 नंबरों का था।

Baat Se Baat Chale

बात से बात चले: तसनीफ़ हैदर के साथ एक अदबी गुफ़्तगू!

लिखने की तरफ़ झुकाव बहुत छोटी उम्र से हुआ था। अब ठीक से तो याद नहीं मगर ये शायद 1995 के आस पास की बात है, जब मेरी उम्र नौ बरस थी। दिल्ली के एक उर्दू रिसाले ‘बच्चों की निराली दुनिया’ में मेरी एक नज़्म ‘मेरा ख़ानदान’ छपी थी। शेर वेर मैं बहुत पहले कहने लगा था।

उर्दू इमला और हम्ज़ा का इस्तेमाल

उर्दू पढ़ने लिखने वालों को या पढ़ना लिखना सिखाने वालों को अगर सबसे ज़ियादः कोई हर्फ़ परेशान कर सकता है तो वो हम्ज़ा है। अव्वल तो इस पर बहसें हैं कि इसे हर्फ़ माना भी जाए या नहीं कि इसकी दूसरे हुरूफ़ की तरह अपनी कोई आवाज़ नहीं है।

Urdu Rasm-ul-Khat

उर्दू रस्म-उल-ख़त सीखना क्यों ज़रूरी है

किसी भी ज़बान को पूरी तरह से समझने के लिए, उसके एक-एक लफ़्ज़ के मआनी तक पहुँचने के लिए सबसे पहले ज़रूरी है, कि हमें उस ज़बान की रस्मुल-ख़त यानी लिपि (script) का इल्म होना चाहिए। जब तक हम कोई ज़बान अच्छी तरह से पढ़ और लिख नहीं सकते, हम उस ज़बान से पूरी तरह वाक़िफ़ भी नहीं हो सकते।

Akbar Allahabadi

Akbar Allahabadi in a New Avatar!

7 Urdu Shayari Memes For The Millennial Idea of Humour

In Akbar Allahabadi, Urdu language found a humorist, a satirist, a commentator, and a reformer. Unlike many, his satire is not corrosive, or black in nature. He lived during the British Raj and his poetry provides glimpses into the socio-political conditions of that age.

Twitter Feeds

Facebook Feeds