Tag : Urdu Poetry

Akhtar-ul-Iman Nazm

Akhtar-ul-Iman: My state of mind while writing ‘Naqsh-e-Paa’

Akhtar ul Iman was one of the most important Urdu poets of his time. Considered as one of the pillars of modern Urdu Nazms (Poems). Akhtar also wrote dialogues for more than hundred bollywood films including ‘Waqt’ and ‘Qaanoon’.

Shakeb Jalali Blog

ज़िन्दगी के ज़ख़्मों से लहू-लुहान शायर : शकेब जलाली

शकेब जलाली की शायरी का उस्लूब मुनफ़रिद और मुमताज़ है और उनकी ग़ज़ल में क़ुदरत रात-दिन, जंगल-सेहरा, बहार-ख़िज़ाँ, अपने हर रूप में जलवा-नुमा है। उनकी शाइरी में ख़िज़ाँ-रसीदा शजर, चाँद, दरिया के इस्तिआरे क़सरत से इस्तेमाल हुए हैं।

Mushaira: A History of thunderous and traditional Waah-Waahs

Mushaira (mehfil or bazm) is a gathering of the poets who write, recite and listen to poetry of one another written in Urdu language, with a participative and responsive audience. It is not a contest which has a winner in the end, but the poets simply read out their self-composed poems in their patented and individual styles, crafted in accordance with a specific metrical pattern and carrying a certain loftiness of thought.

Allama Iqbal

اقبال : ہندوستانی شاعر

اقبال ہندوستانی عظمتوں کے سچا نغمہ طراز تھے۔ اقبال کا خمیر ہندوستان کی مٹی سے اٹھا تھا۔ انھوں نے اپنی شہرہء آفاق نظم “شعاعِ امید” اس وقت لکھی جب وہ اپنے تمام افکار ونظریات تقریباً مکمل طور پر پیش کرچکے تھے۔

Image Shayari, Tasweer shayari

तस्वीर की आँखों से थकन झाँक रही है

शायर जलील मानिकपूरी साहब अपनी महबूबा की तस्वीर देखते हुए कहते हैं कि इस तस्वीर में हर अदा अच्छी है, सिवाए इस बात के कि तस्वीर में महबूबा ख़ामोश है। अब ये सभी को पता है कि अपनी तस्वीर में कोई भी शख्स ख़ामोश ही रहेगा, लेकिन फिर भी शायर का बयान लुत्फ़ देता है।

Twitter Feeds

Facebook Feeds