Teen Urdu Shayar

तीन उर्दू शायर और उनकी पंजाबी ग़ज़लें

ग़ज़ल हिन्दोस्तान की दीगर ज़बानों में कही जा रही है, लेकिन पंजाबी ग़ज़ल उर्दू ग़ज़ल के क़रीब-तरीन है। ये क़ुरबत इस दर्जा है कि पंजाबी के मुमताज़ शायरों के फ़ेहरिस्त में जो लोग हैं, उन नामों से उर्दू के क़ारी भी ना-शनास नहीं। हबीब जालिब, ज़फ़र इक़बाल, मुनीर नियाज़ी जैसे मोतबर शायर इसकी चंद मिसालें हैं।

Gulzar Dehlvi Rekhta Blog Urdu

گلزار دہلوی:تہذیبی امتزاج کی تجسیم

پپنڈت آنند موہن زتشی گلزار دہلوی اپنا جسمانی سفر تمام کرکے ہماری ادبی اور تہذیبی تاریخ میں ایک ایسی داستان کے طور پر درج ہوگئے ہیں، جسے جب بھی پڑھا یا سنا جائے گا تو آنکھوں سے اوجھل ہوتی ہوئی ہماری مشترکہ تہذیب کا تمام تر حسن و جمال مجسم ہوکر سامنے آجائے گا۔گلزار صاحب… continue reading

कृष्ण चंद्र के पढ़े लिखे गधे

हर ज़माने में गधों की अज़मत का तरह तरह से एतराफ़ किया गया, कभी ये पैग़म्बरों की सवारी बने, कभी इन्सानों का बोझ उठाया, किसी पार्टी के इंतिख़ाबी निशान के तौर पर पहचाना गया, कभी सियासी जलसों में डिस्कस हुए, हमारे यहां गधा महज़ बोझ उठाने वाला जानवर ही नहीं एक काबिल-ऐ-क़दर जंगी हीरो भी… continue reading

Baat se Baat Chale Dhirendra Singh Faiyaz

बात से बात चले!

धीरेंद्र सिंह फ़य्याज़ के साथ एक अदबी गुफ़्तुगू

सालिम सलीम : आग़ाज़ हम आप के ख़ानदानी पस-मंज़र से करेंगे, क्या आप के घर में शा’इरी और अदब का माहौल था, जिस से प्रभावित हो कर आप भी शे’र की तरफ़ माइल हुए। इस के बारे में कुछ हमें बताइए। धीरेंद्र सिंह फ़य्याज़ : नहीं ! मेरे परिवार का दूर- दूर तक शा’इरी तो… continue reading

10 बेहतरीन उर्दू किताबें

लॉकडाउन के दौरान उर्दू साहित्य के शीर्ष 10 पुस्तकों को पढ़ें

अच्छी किताब अपने पाठक के लिए ऐसे दोस्त की हैसियत रखती है जो उस को कभी तन्हाई का एहसास नहीं होने देती, यह एक ऐसे हमसफर की तरह है जो अपने साथी को दूर दराज़ के इलाक़ों और शहरों की घर बैठे सैर करा देती है, आजकल हम करोना की वबा के कारण सफ़र नहीं… continue reading

Bichhda Kuch Is Ada Se Ki Rut Hi Badal Gai

Shers which resonate with our sympathies to those we have lost!

The tree of Time, too, withers just like any other tree the only exception being that, the leaves that bid farewell to Its branches are our dearest companions. This withering is a certainty, what is uncertain is that no one knows when and which leaf is going to fall next… in the embrace of Death…. continue reading

Twitter Feeds

Facebook Feeds